What Are The Reasons For IVF Failure?

आईवीएफ जोड़ों को गर्भधारण में मदद करने के लिए व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली प्रक्रिया है, लेकिन यह समझना महत्वपूर्ण है कि सफलता दर 100% नहीं है। औसतन, दुनिया भर में आईवीएफ की सफलता दर लगभग 35-40% है। आईवीएफ एक जटिल प्रक्रिया हो सकती है, और यहां तक कि अंडे और स्पर्म के संयोजन, सफल भ्रूण विकास और स्वस्थ भ्रूण को गर्भाशय में स्थानांतरित करने के बाद भी, ऐसे उदाहरण हो सकते हैं जहां आईवीएफ विफल हो जाता है। गर्भावस्था अपने आप में एक अत्यधिक जटिल प्रक्रिया है, और ऐसे कई कारक हैं जो आईवीएफ विफलता में योगदान करते हैं जिन्हें हम अभी तक पूरी तरह से समझ नहीं पाए हैं।

यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि आईवीएफ की औसत सफलता दर 50% से कम है, जिसका अर्थ है कि प्रक्रिया से गुजरने वाले लगभग आधे लोग गर्भधारण नहीं कर पाते हैं। कभी-कभी, डॉक्टर आईवीएफ विफलता के सटीक कारणों का पता लगाने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। आईवीएफ की लागत महत्वपूर्ण होने के बावजूद, शांत और सूचित रहना आवश्यक है। आईवीएफ विफलता के पीछे के कारकों को समझना और एक सक्षम डॉक्टर के साथ खुली चर्चा करने से आपको आगे बढ़ने का रास्ता खोजने में मदद मिल सकती है।

आईवीएफ विफल क्यों होता है? (Why Does IVF Fail?)

सर्वोत्तम आईवीएफ क्लिनिक चुनने, प्रयोगशाला कारकों पर विचार करने, सही प्रक्रिया का पालन करने, अनुभवी डॉक्टरों और कुशल भ्रूणविज्ञानी होने के बावजूद आईवीएफ विफलता हो सकती है। आदर्श परिस्थितियों में भी, आईवीएफ के 50% से अधिक मामले विफलता में समाप्त हो सकते हैं।

यदि आप सोच रहे हैं कि आपका आईवीएफ सफल क्यों नहीं हुआ, तो व्यक्तिगत कारकों पर विचार करना आवश्यक है जो समस्या में योगदान दे सकते हैं। मानव गर्भ में गर्भावस्था और भ्रूण का विकास जटिल प्रक्रियाएं हैं, और अभी भी बहुत कुछ है जो हम उनके बारे में पूरी तरह से नहीं समझते हैं।

जबकि आईवीएफ विफलता के कारण अलग-अलग हो सकते हैं, प्रजनन विशेषज्ञों ने कुछ ऐसे कारकों की पहचान की है जो जिम्मेदार हो सकते हैं। 

आईवीएफ विफलता के लिए अग्रणी कारक:-

  1. महिला की आयु (Age of The Woman):- जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है, उनके अंडों की गुणवत्ता और मात्रा में गिरावट आती है, जिससे सफल आईवीएफ उपचार की संभावना प्रभावित होती है। 35 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं में 40 से अधिक उम्र की महिलाओं की तुलना में सफलता दर अधिक होती है।
  2. भ्रूण की गुणवत्ता (Embryo Quality):- आईवीएफ के दौरान बनाए गए भ्रूण की गुणवत्ता गर्भाशय में प्रत्यारोपित करने की उनकी क्षमता को प्रभावित कर सकती है। प्रयोगशाला तकनीकें, जैसे टाइम-लैप्स इमेजिंग और भ्रूण ग्रेडिंग, स्थानांतरण के लिए सर्वोत्तम भ्रूण का चयन करने में मदद करती हैं।
  3. ओवेरियन प्रतिक्रिया (Ovarian Response):- कुछ महिलाओं के ओवरीज़ प्रजनन संबंधी दवाओं पर अच्छी प्रतिक्रिया नहीं दे सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप संग्रह के लिए कम अंडे मिलते हैं। कम ओवेरियन आरक्षित, विशेष रूप से वृद्ध महिलाओं में, आईवीएफ की सफलता को प्रभावित कर सकता है।
  4. इम्प्लांटेशन मुद्दे (Implantation Issues):- गर्भाशय पॉलीप्स, पतली एंडोमेट्रियल अस्तर, ऊंचा प्रोजेस्टेरोन स्तर या गर्भाशय संक्रमण जैसे कारक गर्भाशय में सफल भ्रूण प्रत्यारोपण में बाधा डाल सकते हैं।
  5. जीवनशैली (Lifestyle):- धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ वजन हासिल करना, पौष्टिक आहार लेना और नियमित व्यायाम सहित स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखना, आईवीएफ की सफलता पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।
  6. क्रोमोसोमल असामान्यताएं (Chromosomal Abnormalities):- क्रोमोसोमल असामान्यता वाले भ्रूण ठीक से विकसित या प्रत्यारोपित होने में विफल हो सकते हैं, जिससे आईवीएफ विफलता हो सकती है। गुणसूत्र संबंधी असामान्यताओं के लिए भ्रूण का परीक्षण करने से सफलता दर में सुधार हो सकता है।
  7. प्रजनन प्रतिरक्षाविज्ञान (Reproductive Immunology):- ओवरएक्टिव इम्यून सेल्स भ्रूण पर हमला कर सकती हैं, जिससे बार-बार आईवीएफ विफलता हो सकती है। प्रजनन प्रतिरक्षा विज्ञान अध्ययन और उपचार संभावित प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिक्रियाओं में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं।
  8. अंडे की गुणवत्ता (Egg Quality):- खराब अंडे की गुणवत्ता, विशेष रूप से वृद्ध महिलाओं में, आईवीएफ विफलता में योगदान कर सकती है। ऐसे मामलों में डोनर अंडे या सरोगेसी का उपयोग विकल्प हो सकता है।
  9. स्पर्म की गुणवत्ता (Sperm Quality):- सफल निषेचन के लिए स्वस्थ और गतिशील स्पर्म  आवश्यक हैं। स्पर्म गुणवत्ता के मुद्दों को आईसीएसआई जैसी तकनीकों या स्पर्म डोनर्स का उपयोग करके संबोधित किया जा सकता है।
  10. आनुवंशिक और क्रोमोसोमल कारण (Genetic and Chromosomal Causes):- अंडे या स्पर्म में क्रोमोसोमल असामान्यताएं आईवीएफ विफलता का कारण बन सकती हैं। उम्र के साथ असामान्यताओं का खतरा बढ़ जाता है, खासकर महिलाओं में।
  11. आईवीएफ लैब कारक (IVF Lab Factors):- आईवीएफ प्रयोगशाला में पर्यावरणीय कारकों का सख्त नियंत्रण महत्वपूर्ण है। तापमान, पीएच स्तर या ऑक्सीजन स्तर में मामूली विचलन भी भ्रूण की व्यवहार्यता को प्रभावित कर सकता है और आईवीएफ विफलता का कारण बन सकता है।
  12. अंडा पुनर्प्राप्ति और भ्रूण स्थानांतरण के साथ समस्याएं (Problems with Egg Retrieval and Embryo Transfer):- पर्याप्त संख्या में अंडे प्राप्त करने में कठिनाई या उचित भ्रूण स्थानांतरण में चुनौतियों के परिणामस्वरूप आईवीएफ विफलता हो सकती है।
  13. भ्रूण चयन (Embryo Selection):- गुणसूत्रीय रूप से सामान्य भ्रूण का चयन करने में भ्रूणविज्ञानी की विशेषज्ञता आवश्यक है। भ्रूण चयन की सीमित तकनीकें आईवीएफ की सफलता को प्रभावित कर सकती हैं।

इन कारकों को समझने से व्यक्तियों और जोड़ों को आईवीएफ की चुनौतियों से निपटने और अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के मार्गदर्शन के साथ सूचित निर्णय लेने में मदद मिल सकती है।

Share This Post
spot_img
spot_img
Related Posts

मोतीलाल ओसवाल पे डीमैट अकाउंट कैसे खोले ?

मोतीलाल ओसवाल भारत का एक प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफार्म है।...

डीमेट अकांउट केसे खोले?

विषय डीमैट खाता क्या है? डीमैट खाता निम्नलिखित प्रतिभूतियों को संचालित...

डीमैट खातों को समझना: एक व्यापक मार्गदर्शिका

डीमैट खाता: परिचय डीमैट खाता, जिसे 'डेमटेरियलाइजेशन खाता' के नाम...

The Role Of Genetics In IVF: Pre-Implantation Genetic Testing in Hindi

सहायक प्रजनन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन...

Alternative Options To IVF: Exploring Other Fertility Treatments in Hindi

बांझपन से जूझ रहे जोड़ों के लिए आईवीएफ के...

The Risks And Potential Complications Of IVF in Hindi

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ), प्रजनन चिकित्सा के क्षेत्र में...