What Is Endometriosis?

एंडोमेट्रियोसिस एक ऐसी स्थिति है जहां आपके गर्भाशय की परत के समान टिश्यू आपके शरीर के अन्य हिस्सों में बढ़ने लगते हैं। यह टिश्यू असुविधा पैदा कर सकता है और आपके दैनिक जीवन को प्रभावित कर सकता है। इससे कुछ लोगों के लिए गर्भवती होना भी मुश्किल हो सकता है।

आम तौर पर, आपके गर्भाशय की अंदरूनी परत को एंडोमेट्रियम कहा जाता है। यह आपके मासिक धर्म के दौरान हर महीने बनता और निकलता है। यदि आप गर्भधारण करती हैं तो यह प्रारंभिक गर्भधारण में सहायता करता है।

एंडोमेट्रियोसिस में, एंडोमेट्रियम के समान टिश्यू उन जगहों पर बढ़ता है जहां इसे नहीं बढ़ना चाहिए, जैसे कि आपका पेट, पेल्विस, या यहां तक कि छाती। यह टिश्यू हार्मोन के प्रति संवेदनशील होता है और आपके मासिक धर्म चक्र के दौरान इसमें सूजन हो सकती है। इससे ओवेरियन अल्सर, सतह पर घाव, गहरी गांठें, आसंजन (अंगों के बीच टिश्यू को जोड़ने) और आपके शरीर के अंदर निशान टिश्यू हो सकते हैं।

एंडोमेट्रिओसिस आपके शरीर में विभिन स्थानों को प्रभावित कर सकता है, जिनमें शामिल हैं:-

  1. आपके गर्भाशय के बाहर और पीछे (Outside and Behind Your Uterus)
  2. फैलोपियन ट्यूब (Fallopian Tubes)
  3. अंडाशय (Ovaries)
  4. प्रजनन नलिका (Vagina)
  5. पेरिटोनियम (Peritoneum) (पेट और पेल्विस की परत)
  6. मूत्राशय और मूत्रवाहिनी (Bladder and Ureters)
  7. आंतें (Intestines)
  8. मलाशय (Rectum)
  9. डायाफ्राम (Diaphragm)(सांस लेने में शामिल आपकी छाती के नीचे के पास की एक मांसपेशी)

ये असामान्य वृद्धि दर्द और एंडोमेट्रियोसिस से जुड़े अन्य लक्षण पैदा कर सकती है। इन लक्षणों को समझना और उचित निदान और उपचार के लिए चिकित्सकीय सलाह लेना महत्वपूर्ण है।

एंडोमेट्रियोसिस के प्रकार क्या हैं? (What Are The Types of Endometriosis?)

एंडोमेट्रियोसिस को इस आधार पर विभिन प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है कि यह पेल्विस या पेट को कहां प्रभावित करता है। इसके चार मुख्य प्रकार हैं:-

  1. सतही पेरिटोनियल एंडोमेट्रियोसिस (Superficial Peritoneal Endometriosis):- इस प्रकार में पेरिटोनियम से एंडोमेट्रियल टिश्यू का जुड़ाव शामिल होता है, जो पेट और पेल्विस को अस्तर करने वाली एक पतली झिल्ली होती है। यह एंडोमेट्रियोसिस का सबसे हल्का रूप है।
  2. एंडोमेट्रियोमास (Endometriomas):- ये फ्लूइड से भरे सिस्ट होते हैं, जिन्हें अक्सर चॉकलेट सिस्ट कहा जाता है, जो गहरे रंग के दिखाई देते हैं। वे आकार में अलग हो सकते हैं और आमतौर पर पेल्विस या पेट के अलग हिस्सों में पाए जाते हैं, खासकर ओवरीज़ में।
  3. गहराई से घुसपैठ करने वाला एंडोमेट्रियोसिस (डीआईई) (Deeply Infiltrating Endometriosis (DIE):- इस प्रकार में, एंडोमेट्रियल टिश्यू पेल्विस गुहा के भीतर या बाहर अंगों पर आक्रमण करता है। यह ओवरीज़, रेक्टम, मूत्राशय और आंत जैसे अंगों को प्रभावित कर सकता है। दुर्लभ मामलों में, व्यापक स्कार टिश्यू के कारण अंग आपस में चिपक सकते हैं, जिससे ऐसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है जिसे फ्रोज़न पेल्विस कहा जाता है। हालाँकि, यह एंडोमेट्रियोसिस वाले केवल कुछ प्रतिशत लोगों में होता है।
  4. पेट की दीवार एंडोमेट्रियोसिस (Abdominal Wall Endometriosis):- कभी-कभी, पेट की दीवार पर एंडोमेट्रियल टिश्यू बढ़ सकते हैं। यह सर्जिकल चीरे से जुड़ सकता है, जैसे कि सी-सेक्शन से।

ये विभिन प्रकार के एंडोमेट्रियोसिस अलग लक्षण पैदा कर सकते हैं और निदान और उपचार के लिए विशिष्ट पहुँच की आवश्यकता हो सकती है। स्थिति के सटीक मूल्यांकन और प्रबंधन के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

एंडोमेट्रियोसिस के कारण क्या हैं? (What Are The Causes Of Endometriosis?)

एंडोमेट्रियोसिस का सटीक कारण पूरी तरह से समझा नहीं गया है, लेकिन इसके कई संभावित स्पष्टीकरण हैं:-

  1. प्रतिगामी मासिक धर्म (Retrograde Menstruation):- प्रतिगामी मासिक धर्म के दौरान, एंडोमेट्रियल सेल्स वाला मासिक धर्म रक्त शरीर छोड़ने के बजाय फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से और पेल्विस कैवटी में पीछे की ओर प्रवाहित होता है। ये सेल्स पेल्विक दीवारों और अंगों से चिपक सकती हैं, जहां वे बढ़ती हैं, मोटी हो जाती हैं और प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के दौरान रक्तस्राव होता है।
  2. पेरिटोनियल कोशिकाओं का परिवर्तन (Transformation of Peritoneal Cells):- “प्रेरण सिद्धांत” के अनुसार, हार्मोन या प्रतिरक्षा कारक पेरिटोनियल सेल्स (पेट के अंदरूनी हिस्से को अस्तर करने वाली सेल्स) को एंडोमेट्रियल जैसी सेल्स में बदलने का कारण बन सकते हैं।
  3. भ्रूण कोशिका परिवर्तन (Embryonic Cell Changes):- एस्ट्रोजन जैसे हार्मोन भ्रूण सेल्स (विकास के प्रारंभिक चरण में सेल्स) को यौवन के दौरान एंडोमेट्रियल जैसे प्रत्यारोपण में बदलने का कारण बन सकते हैं।
  4. सर्जिकल स्कार इम्प्लांट्स (Surgical Scar Implants):- हिस्टेरेक्टॉमी या सी-सेक्शन जैसी सर्जरी के बाद, एंडोमेट्रियल सेल्स सर्जिकल चीरे से जुड़ सकती हैं।
  5. एंडोमेट्रियल सेल परिवहन (Endometrial Cell Transport):- एंडोमेट्रियल सेल्स को रक्त वाहिकाओं या लिम्फ प्रणाली (टिश्यू फ्लूइड) के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में ले जाया जा सकता है।
  6. इम्यून सिस्टम डिसऑर्डर्स (Immune System Disorders):- इम्यून सिस्टम की शिथिलता शरीर को गर्भाशय के बाहर बढ़ने वाले एंडोमेट्रियल जैसे टिश्यू को पहचानने और खत्म करने से रोक सकती है।

ये संभावित विवरण शोधकर्ताओं को यह समझने में मदद करते हैं कि एंडोमेट्रियोसिस कैसे विकसित हो सकता है, लेकिन इस स्थिति के अंतर्निहित कारणों को पूरी तरह से समझने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण क्या हैं? (What Are The Symptoms Of Endometriosis?)

एंडोमेट्रियोसिस विभिन लक्षणों से जुड़ा है, जिनमें से मुख्य है दर्द। यह दर्द तीव्र से हल्के तक हो सकता है और आमतौर पर पेट, पेल्विस क्षेत्र और पीठ के निचले हिस्से में महसूस होता है। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एंडोमेट्रियोसिस वाले हर व्यक्ति को लक्षणों का अनुभव नहीं होगा। कुछ मामलों में, एंडोमेट्रियोसिस का पता केवल अन्य चिकित्सा प्रक्रियाओं या बांझपन की जांच के दौरान ही लगाया जा सकता है।

जो लोग लक्षणों का अनुभव करते हैं, उनमें ये शामिल हो सकते हैं:-

  1. बहुत दर्दनाक मासिक धर्म क्रैम्प्स.
  2. मासिक धर्म के दौरान या मासिक धर्म के बीच में पेट या पीठ में दर्द।
  3. संभोग के दौरान दर्द.
  4. मासिक धर्म में भारी रक्तस्राव या मासिक धर्म के बीच में धब्बे पड़ना।
  5. बांझपन या गर्भवती होने में कठिनाई।
  6. दर्दनाक मल त्याग।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि लक्षणों की गंभीरता एंडोमेट्रियोसिस की सीमा से संबंधित नहीं है। कुछ व्यक्तियों में एंडोमेट्रियोसिस के केवल कुछ पैच हो सकते हैं और फिर भी गंभीर दर्द का अनुभव हो सकता है, जबकि गंभीर एंडोमेट्रियोसिस वाले अन्य लोगों को महत्वपूर्ण दर्द का अनुभव नहीं हो सकता है। एंडोमेट्रियोसिस के साथ प्रत्येक व्यक्ति का अनुभव अलग-अलग हो सकता है।

एंडोमेट्रियोसिस का निदान कैसे करें? (How To Diagnose Endometriosis?)

यदि आपके डॉक्टर को आपके लक्षणों के आधार पर संदेह है कि आपको एंडोमेट्रियोसिस है, तो वे निदान की पुष्टि के लिए कुछ परीक्षणों की सिफारिश कर सकते हैं:-

  1. पेल्विक परीक्षण (Pelvic Exam):- इस परीक्षण के दौरान, आपका डॉक्टर आपके गर्भाशय के पीछे सिस्ट या स्कार महसूस कर सकता है, जो एंडोमेट्रियोसिस का संकेत हो सकता है।
  2. इमेजिंग परीक्षण (Imaging Tests):- आपके अंगों की विस्तृत तस्वीरें प्राप्त करने के लिए, आपका डॉक्टर अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन या एमआरआई का सुझाव दे सकता है। ये परीक्षण एंडोमेट्रियोसिस से जुड़ी किसी भी असामान्यता की पहचान करने में मदद कर सकते हैं।
  3. लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy):- यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें आपके पेट में एक छोटा सा चीरा लगाया जाता है और कैमरे (लैप्रोस्कोप) के साथ एक पतली ट्यूब डाली जाती है। यह आपके डॉक्टर को सीधे घावों की कल्पना करने और उनका आकार और स्थान निर्धारित करने की अनुमति देता है। लैप्रोस्कोपी अक्सर एंडोमेट्रियोसिस का निदान करने का सबसे सटीक तरीका है।
  4. बायोप्सी (Biopsy):- कभी-कभी, लैप्रोस्कोपी के दौरान, आपका डॉक्टर आगे की जांच के लिए टिश्यू (बायोप्सी) का एक नमूना ले सकता है। एंडोमेट्रियोसिस की उपस्थिति की पुष्टि करने के लिए एक विशेषज्ञ माइक्रोस्कोप के तहत टिश्यू का विश्लेषण करेगा।

ये परीक्षण आपके डॉक्टर को एंडोमेट्रियोसिस का निश्चित निदान करने के लिए आवश्यक जानकारी इकट्ठा करने में मदद करते हैं।

एंडोमेट्रिओसिस का इलाज क्या हैं? (What Are The Treatment For Endometriosis?)

जब एंडोमेट्रियोसिस की बात आती है, तो यह समझ में आता है कि आप इसके कारण होने वाले दर्द और अन्य लक्षणों से राहत चाहते हैं। हालाँकि एंडोमेट्रियोसिस का कोई इलाज नहीं है, लेकिन इसके लक्षणों को प्रबंधित करने के तरीके मौजूद हैं।

आपका डॉक्टर आपकी विशिष्ट स्थिति के आधार पर विभिन उपचार सुझा सकता है। वे रूढ़िवादी विकल्पों से शुरुआत कर सकते हैं और ज़रूरत पड़ने पर सर्जरी पर विचार कर सकते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस के उपचार के विकल्पों में शामिल हैं:-

  1. दर्द निवारक दवाएं (Pain Relievers):- इबुप्रोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाएं मदद कर सकती हैं, लेकिन वे हर किसी के लिए काम नहीं कर सकती हैं।
  2. हार्मोन थेरेपी (Hormone Therapy):- हार्मोन लेने से दर्द कम हो सकता है और एंडोमेट्रियोसिस की प्रगति धीमी हो सकती है। ये हार्मोन उन हार्मोनल परिवर्तनों को विनियमित करने में मदद करते हैं जो ऊतक विकास में योगदान करते हैं।
  3. हार्मोनल गर्भनिरोधक (Hormonal Contraceptives):- जन्म नियंत्रण की गोलियाँ, पैच और वजाइन के छल्ले एंडोमेट्रियल जैसे टिश्यू की मासिक वृद्धि को रोककर एंडोमेट्रियोसिस के कम गंभीर मामलों में दर्द को कम या खत्म कर सकते हैं।
  4. गोनैडोट्रोपिन-रिलीजिंग हार्मोन (जीएनआरएच) एगोनिस्ट और प्रतिपक्षी (Gonadotropin-Releasing Hormone (GnRH) Agonists and Antagonists):- ये दवाएं एस्ट्रोजन उत्पादन को रोकती हैं, जो एंडोमेट्रियल प्रत्यारोपण के विकास को दबाने में मदद कर सकती हैं।
  5. डेनाज़ोल (Danazol):- यह दवा मासिक धर्म को रोक सकती है और लक्षणों को कम कर सकती है, लेकिन इसके मुँहासे और अत्यधिक बाल बढ़ने जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  6. कंजर्वेटिव सर्जरी (Conservative Surgery):- जो लोग गर्भधारण करना चाहते हैं या उन्हें गंभीर दर्द होता है, जिस पर हार्मोनल उपचार का असर नहीं होता, उनके लिए कंजर्वेटिव सर्जरी एक विकल्प हो सकता है। इसका उद्देश्य प्रजनन अंगों को नुकसान पहुंचाए बिना एंडोमेट्रियल वृद्धि को हटाना या नष्ट करना है।
  7. अंतिम उपाय सर्जरी (हिस्टेरेक्टॉमी) (Last Resort Surgery (Hysterectomy):- दुर्लभ मामलों में जहां अन्य उपचार अप्रभावी होते हैं, कुल हिस्टेरेक्टॉमी की सिफारिश की जा सकती है। इसमें गर्भाशय, गर्भाशय सर्विक्स, अंडाशय और दृश्यमान प्रत्यारोपण घावों को हटाना शामिल है। हालाँकि, हिस्टेरेक्टॉमी कोई इलाज नहीं है और गर्भावस्था को रोकता है।

अपने मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। एक सहायता समूह में शामिल होने और इसे प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए स्थिति के बारे में खुद को शिक्षित करने पर विचार करें।

यदि आप सर्जरी पर विचार कर रहे हैं, खासकर यदि आप बच्चे पैदा करना चाहते हैं, तो निर्णय लेने से पहले दूसरी चिकित्सा राय लेने की सलाह दी जाती है।

याद रखें, शीघ्र निदान और उपचार एंडोमेट्रियोसिस को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में अंतर ला सकते हैं।

Share This Post
spot_img
spot_img
Related Posts

मोतीलाल ओसवाल पे डीमैट अकाउंट कैसे खोले ?

मोतीलाल ओसवाल भारत का एक प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफार्म है।...

डीमेट अकांउट केसे खोले?

विषय डीमैट खाता क्या है? डीमैट खाता निम्नलिखित प्रतिभूतियों को संचालित...

डीमैट खातों को समझना: एक व्यापक मार्गदर्शिका

डीमैट खाता: परिचय डीमैट खाता, जिसे 'डेमटेरियलाइजेशन खाता' के नाम...

The Role Of Genetics In IVF: Pre-Implantation Genetic Testing in Hindi

सहायक प्रजनन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन...

Alternative Options To IVF: Exploring Other Fertility Treatments in Hindi

बांझपन से जूझ रहे जोड़ों के लिए आईवीएफ के...

The Risks And Potential Complications Of IVF in Hindi

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ), प्रजनन चिकित्सा के क्षेत्र में...