What Is Male Infertility?

पुरुष बांझपन उस स्थिति को संदर्भित करता है जहां एक वर्ष तक असुरक्षित संभोग के बाद एक पुरुष एक महिला को गर्भवती करने में असमर्थ होता है। यह बांझपन के लगभग 20% मामलों में एक महत्वपूर्ण कारण है और अन्य 30% से 40% मामलों में योगदान देता है। बांझपन लगभग 7 में से 1 जोड़े को प्रभावित करता है, और इनमें से लगभग आधे मामलों में, पुरुष बांझपन एक भूमिका निभाता है।

पुरुष बांझपन के कई कारण हैं, जिनमें कम स्पर्म उत्पादन, स्पर्म कार्य में समस्याएं, या रुकावटें शामिल हैं जो स्पर्म को महिला प्रजनन प्रणाली तक पहुंचने से रोकती हैं। बीमारियाँ, चोटें, पुरानी स्वास्थ्य समस्याएं, जीवनशैली विकल्प और अन्य कारण भी पुरुष बांझपन में योगदान कर सकते हैं।

गर्भधारण के लिए संघर्ष करना भावनात्मक रूप से चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन पुरुष बांझपन के लिए उपचार उपलब्ध हैं।

पुरुष बांझपन के कारण क्या हैं? (What Are The Causes Of Male Infertility?)

जैविक और पर्यावरणीय दोनों तरह के विभिन कारण आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। इन कारकों में शामिल हैं:-

  1. एज़ूस्पर्मिया (Azoospermia):- जब आप स्पर्म सेल्स का उत्पादन करने में असमर्थ होते हैं, जो आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है।
  2. ओलिगोस्पर्मिया (Oligospermia):- स्पर्म की कम संख्या या खराब गुणवत्ता का उत्पादन।
  3. आनुवंशिक बीमारियाँ (Genetic Diseases):- कुछ आनुवंशिक स्थितियाँ जैसे क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम, मायोटोनिक डिस्ट्रोफी, माइक्रोडिलीशन और भी बहुत कुछ प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं।
  4. विकृत स्पर्म (Malformed Sperm):- स्पर्म जो ठीक से नहीं बनते हैं और अंडे को निषेचित करने के लिए पर्याप्त समय तक जीवित नहीं रह सकते हैं।
  5. कुछ चिकित्सीय स्थितियां (Certain Medical Conditions):- मधुमेह, कुछ ऑटोइम्यून विकार, सिस्टिक फाइब्रोसिस और कुछ संक्रमण जैसी स्थितियां प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं।
  6. कुछ दवाएँ और पूरक।
  7. वैरिकोसेले (Varicocele):- टेस्टिकल्स में बढ़ी हुई नसें जो अत्यधिक गर्मी का कारण बन सकती हैं और स्पर्म के आकार या मात्रा को प्रभावित कर सकती हैं।
  8. कैंसर के उपचार (Cancer Treatments):- कीमोथेरेपी, विकिरण, या टेस्टिकल्स हटाने की सर्जरी (एकतरफा या द्विपक्षीय)।
  9. अस्वास्थ्यकर आदतें (Unhealthy Habits):- शराब, धूम्रपान और नशीली दवाओं सहित मादक द्रव्यों का सेवन।
  10. वृषण आघात (Testicular Trauma):- टेस्टिकल्स में चोटें जो प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं।
  11. हार्मोनल विकार (Hormonal Disorders):- हाइपोथैलेमस या पिट्यूटरी ग्रंथियों को प्रभावित करने वाले विकार, जो प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि ये कारक पुरुष बांझपन में योगदान कर सकते हैं, लेकिन जरूरी नहीं कि वे हर मामले में बांझपन की गारंटी दें। चिकित्सीय सलाह लेने से प्रजनन संबंधी किसी भी चिंता का निदान और समाधान करने में मदद मिल सकती है।

पुरुष बांझपन के लक्षण क्या हैं? (What Are The Symptoms Of Male Infertility?)

पुरुष बांझपन का प्राथमिक संकेतक गर्भधारण करने में असमर्थता है। अन्य ध्यान देने योग्य संकेत या लक्षण हमेशा मौजूद नहीं हो सकते हैं।

हालाँकि, कुछ मामलों में, विशिष्ट कारक बांझपन में योगदान कर सकते हैं। इन कारकों में पैत्रिक विकार, हार्मोनल असंतुलन, टेस्टिकल्स  के पास बढ़ी हुई नसें या ऐसी स्थितियां शामिल हो सकती हैं जो स्पर्म  के मार्ग को अवरुद्ध करती हैं। यदि ये कारक मौजूद हैं, तो आपको निम्नलिखित संकेत और लक्षण अनुभव हो सकते हैं:-

  • यौन क्रिया संबंधी समस्याएं (Sexual Function Problems):- स्खलन में कठिनाइयाँ, स्खलन फ्लूइड की छोटी मात्रा, यौन इच्छा में कमी, या स्तंभन (स्तंभन दोष) को बनाए रखने में कठिनाइयाँ।
  • टेस्टिकल्स से संबंधित लक्षण (Symptoms Related to Testicles):- टेस्टिकल्स क्षेत्र में दर्द, सूजन या गांठ का होना।
  • बार-बार श्वसन संक्रमण होना (Respiratory Infections)
  • गंध की अनुभूति का नष्ट होना।
  • असामान्य स्तन वृद्धि (गाइनेकोमेस्टिया) (Gynaecomastia)
  • चेहरे या शरीर पर बालों की वृद्धि में कमी, या क्रोमोसोमल या हार्मोनल असामान्यताओं के अन्य संकेत।
  • सामान्य से कम स्पर्म संख्या (Low Sperm Count):- इसका तात्पर्य प्रति मिलीलीटर वीर्य में 15 मिलियन से कम स्पर्म होना या प्रति स्खलन में कुल स्पेर्म्स की संख्या 39 मिलियन से कम होना है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन संकेतों या लक्षणों का अनुभव करने का मतलब यह नहीं है कि बांझपन मौजूद है। यदि आपको पुरुष बांझपन का संदेह है, तो उचित मूल्यांकन और निदान के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करने की सिफारिश की जाती है।

पुरुष बांझपन का निदान कैसे किया जाता है? (How Is Male Infertility Diagnosed?)

पुरुष बांझपन के मूल्यांकन के दौरान, आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता जानकारी इकट्ठा करने और संभावित कारणों की पहचान करने के लिए कई कदम उठाएगा। इनमें शामिल हो सकते हैं:-

  1. स्वास्थ्य इतिहास की समीक्षा (Health History Review):- आपका प्रदाता आपसे आपके चिकित्सा इतिहास, जीवनशैली और किसी भी पिछले प्रजनन संबंधी मुद्दों के बारे में प्रश्न पूछेगा।
  2. शारीरिक परीक्षा (Physical Examination):- पुरुष प्रजनन प्रणाली सहित आपके समग्र स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए एक गहन परीक्षा आयोजित की जाएगी।
  3. स्पर्म गणना (सीमेन विश्लेषण) (Sperm Count (Semen Analysis):- अलग-अलग दिनों में कई सीमेन  नमूने एकत्र किए जाएंगे। इन नमूनों का विश्लेषण विभिन कारकों का आकलन करने के लिए किया जाएगा, जैसे सीमेन की मात्रा और स्थिरता, अम्लता का स्तर, स्पेर्म्स की संख्या, गतिशीलता (गति), और आकृति विज्ञान (आकार)।
  4. रक्त परीक्षण (Blood Tests):- हार्मोन के स्तर को मापने और किसी भी अंतर्निहित स्थिति या हार्मोनल असंतुलन का पता लगाने के लिए रक्त के नमूने लिए जा सकते हैं।
  5. अतिरिक्त परीक्षण (Additional Tests):- आपका प्रदाता स्पर्म या पुरुष प्रजनन प्रणाली के साथ किसी विशिष्ट समस्या की पहचान करने के लिए आगे के परीक्षणों की सिफारिश कर सकता है। इन परीक्षणों में टेस्टिकल्स, रक्त वाहिकाओं और अंडकोश के भीतर संरचनाओं की जांच करने के लिए अल्ट्रासाउंड जैसी इमेजिंग तकनीक शामिल हो सकती है।
  6. वृषण बायोप्सी (Testicular Biopsy):- यदि वीर्य विश्लेषण से पता चलता है कि स्पेर्म्स की संख्या कम है या कोई स्पर्म नहीं है, तो प्रत्येक टेस्टिकल्स से एक छोटा टिश्यू नमूना (बायोप्सी) लिया जा सकता है। स्पर्म असामान्यताओं या किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या का कारण निर्धारित करने के लिए इस नमूने की माइक्रोस्कोप के तहत जांच की जाएगी।

ये परीक्षण आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को पुरुष बांझपन के अंतर्निहित कारणों का निदान करने और एक उचित उपचार योजना विकसित करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा करने में मदद करेंगे।

पुरुष बांझपन का इलाज कैसे किया जाता है? (How Is Male Infertility Treated?)

बांझपन का उपचार समस्या के अंतर्निहित कारण पर निर्भर करता है। यहां कुछ संभावित उपचार दिए गए हैं:-

  1. प्रजनन सहायता (Fertility Support:):-
  • आर्टिफीसियल गर्भाधान (Artificial Insemination):- स्वस्थ स्पर्म को गर्भाशय सर्विक्स के पास या सीधे गर्भाशय में रखा जाता है, जिससे उन्हें फैलोपियन ट्यूब तक आसानी से पहुंचने में मदद मिलती है।
  • सहायक प्रजनन तकनीक (जैसे, आईवीएफ, गिफ्ट) (Assisted Reproductive Technology (eg, IVF, GIFT):- निषेचन की संभावना बढ़ाने के लिए स्पर्म और अंडों को प्रयोगशाला में या फैलोपियन ट्यूब के अंदर मिलाया जाता है। परिणामी भ्रूण को फिर गर्भाशय में रखा जाता है।
  • इंट्रासाइटोप्लाज्मिक स्पर्म इंजेक्शन (आईसीएसआई) (Intracytoplasmic Sperm Injection (ICSI):- एक अकेला स्पर्म को माइक्रोस्कोप के तहत सीधे अंडे में इंजेक्ट किया जाता है। फिर निषेचित अंडे को गर्भाशय में स्थानांतरित कर दिया जाता है।
  1. दवाई (Medicine):-
  • हार्मोन थेरेपी (Hormone Therapy):- यदि हार्मोन असंतुलन बांझपन का कारण बन रहा है, तो हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करने और स्पर्म विकास में सुधार करने के लिए दवाओं का उपयोग किया जा सकता है। इसमें गोनैडोट्रोपिन थेरेपी या एंटीबायोटिक्स शामिल हो सकते हैं।
  1. ऑपरेशन (Surgery):-
  • स्पर्म उत्पादन, परिपक्वता या स्खलन को प्रभावित करने वाली समस्याओं के समाधान के लिए सर्जिकल हस्तक्षेप आवश्यक हो सकता है। उदाहरण के लिए, सर्जरी वैरिकोसेले (अंडकोश में मुड़ी हुई, सूजी हुई नसें) जैसी स्थितियों को ठीक कर सकती है, जिससे स्पर्म की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है।

अपनी विशिष्ट स्थिति के बारे में किसी भी प्रश्न या चिंता के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना याद रखें। वे व्यक्तिगत मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं और आपके लिए सबसे उपयुक्त उपचार विकल्प सुझा सकते हैं।

Share This Post
spot_img
spot_img
Related Posts

मोतीलाल ओसवाल पे डीमैट अकाउंट कैसे खोले ?

मोतीलाल ओसवाल भारत का एक प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफार्म है।...

डीमेट अकांउट केसे खोले?

विषय डीमैट खाता क्या है? डीमैट खाता निम्नलिखित प्रतिभूतियों को संचालित...

डीमैट खातों को समझना: एक व्यापक मार्गदर्शिका

डीमैट खाता: परिचय डीमैट खाता, जिसे 'डेमटेरियलाइजेशन खाता' के नाम...

The Role Of Genetics In IVF: Pre-Implantation Genetic Testing in Hindi

सहायक प्रजनन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन...

Alternative Options To IVF: Exploring Other Fertility Treatments in Hindi

बांझपन से जूझ रहे जोड़ों के लिए आईवीएफ के...

The Risks And Potential Complications Of IVF in Hindi

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ), प्रजनन चिकित्सा के क्षेत्र में...