What Is Recurrent Miscarriage?

बार-बार गर्भपात (Recurrent Miscarriage), जिसे बार-बार गर्भावस्था हानि के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब एक महिला को लगातार दो या अधिक नैदानिक ​​गर्भावस्था हानि का अनुभव होता है। क्लिनिकल गर्भावस्था वह होती है जहां गर्भावस्था का सबूत होता है, जैसे प्रारंभिक अल्ट्रासाउंड पर गर्भकालीन थैली, प्लेसेंटा या भ्रूण ध्रुव के दृश्यमान लक्षण। नैदानिक गर्भधारण को रासायनिक गर्भधारण से अलग करना महत्वपूर्ण है, जो गर्भपात होते हैं जो गर्भावस्था के किसी भी दृश्यमान सबूत से पहले होते हैं। लगभग 15 से 20 प्रतिशत नैदानिक गर्भधारण का अंत गर्भपात में होता है।

गर्भपात आम है और आमतौर पर गर्भावस्था की पहली तिमाही में, 13 सप्ताह तक होता है। एक या दो गर्भपात का अनुभव होना जरूरी नहीं कि भविष्य में बांझपन का संकेत हो, क्योंकि आधे से अधिक जोड़े ऐसे नुकसान के बाद बिना किसी चिकित्सीय सहायता के स्वस्थ बच्चे पैदा करेंगे। हालाँकि, यदि किसी महिला का सफल जीवित जन्म नहीं हुआ है और उसने दो या अधिक गर्भपात का अनुभव किया है, तो चिंताओं को दूर करने और सफल गर्भावस्था की सर्वोत्तम संभावना सुनिश्चित करने के लिए संभावित अंतर्निहित कारणों की जांच करना उचित हो सकता है।

संक्षेप में, बार-बार गर्भपात का तात्पर्य लगातार दो या दो से अधिक गर्भधारण हानि की घटना से है। जबकि गर्भपात अपेक्षाकृत सामान्य है और अक्सर गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में होता है, कई नुकसान किसी भी संभावित अंतर्निहित कारकों को निर्धारित करने और सफल गर्भावस्था की संभावनाओं को अनुकूलित करने के लिए आगे की जांच की आवश्यकता हो सकती है।

बार-बार होने वाले गर्भपात के प्रकार क्या हैं? (What Are The Types of Recurrent Miscarriage?)

गर्भपात विभिन्न कारकों के कारण हो सकता है, लेकिन उन्हें आम तौर पर दो समूहों में वर्गीकृत किया जाता है: प्रारंभिक गर्भपात और देर से गर्भपात।

  1. प्रारंभिक गर्भपात (Early Miscarriages):- पहली तिमाही के भीतर होने वाले प्रारंभिक गर्भपात को अक्सर भ्रूण में आनुवंशिक या गुणसूत्र संबंधी समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। लगभग 50-80% सहज गर्भपात में असामान्य गुणसूत्र संख्या शामिल होती है। गर्भाशय की संरचनात्मक समस्याएं भी शीघ्र गर्भपात में योगदान कर सकती हैं।

 

  • देर से गर्भपात विभिन कारकों के कारण हो सकता है (Late Miscarriage):-
  • गर्भाशय संबंधी असामान्यताएं (Uterine Abnormalities):- गर्भाशय में कुछ असामान्यताएं गर्भावस्था के बाद के चरणों में गर्भपात के खतरे को बढ़ा सकती हैं।
  • ऑटोइम्यून समस्याएं (Autoimmune Problems):- कुछ ऑटोइम्यून स्थितियां गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती हैं और देर से गर्भपात का कारण बन सकती हैं।
  • अक्षम गर्भाशय ग्रीवा (Incompetent Cervix):- एक कमजोर गर्भाशय सर्विक्स बहुत जल्दी खुल सकती है, जिससे देर से गर्भपात हो सकता है।
  • समय से पहले प्रसव (Premature Labor):- समय से पहले प्रसव, जो गर्भावस्था के 37वें सप्ताह से पहले होता है, के परिणामस्वरूप देर से गर्भपात हो सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये सामान्य श्रेणियां हैं, और गर्भपात के प्रत्येक व्यक्तिगत मामले का अपना विशिष्ट अंतर्निहित कारण हो सकता है। स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ परामर्श करने से गर्भपात में योगदान देने वाले विशिष्ट कारकों की पहचान करने और उचित प्रबंधन या उपचार विकल्प निर्धारित करने में मदद मिल सकती है।

बार-बार गर्भपात के कारण क्या हैं? (What Are The Causes Of Recurrent Miscarriage?)

बार-बार होने वाले गर्भपात के कई कारण हो सकते हैं, हालांकि कभी-कभी सटीक कारण अज्ञात रहता है। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अधिकांश जोड़े जिन्हें बार-बार गर्भपात का अनुभव हुआ है, उनके पास अभी भी भविष्य में बच्चा पैदा करने की अच्छी संभावना है।

  1. रक्त के थक्के जमने के विकार (Blood Clotting Disorders):- दुर्लभ प्रतिरक्षा प्रणाली विकार जैसे सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस और एंटीफॉस्फोलिपिड सिंड्रोम, प्लेसेंटा में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करके और थक्के पैदा करके बार-बार गर्भपात का कारण बन सकते हैं। उपचार में एस्पिरिन और हेपरिन थेरेपी जैसे रक्त को पतला करने वाली दवाएं शामिल हो सकती हैं।
  2. थायराइड की समस्याएं (Thyroid Problems):- थायराइड की समस्याएं गर्भावस्था के नुकसान के बढ़ते जोखिम से जुड़ी हैं। गर्भवती होने से पहले थायराइड फ़ंक्शन का परीक्षण करना आवश्यक है।
  3. थायराइड एंटीबॉडीज (Thyroid Antibodies):- थायराइड एंटीबॉडीज का उच्च स्तर भी गर्भपात के खतरे को बढ़ा सकता है। इन एंटीबॉडी वाली महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान थायराइड फ़ंक्शन की निगरानी करना महत्वपूर्ण है।
  4. गर्भाशय संबंधी समस्याएं (Uterine Problems):- गर्भाशय के आकार में असामान्यताएं बार-बार गर्भपात और समय से पहले जन्म के खतरे को बढ़ा सकती हैं। निदान आमतौर पर अल्ट्रासाउंड के माध्यम से किया जाता है, और निष्कर्षों के आधार पर सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है।
  5. आनुवंशिक कारण (Genetic Causes):- कुछ मामलों में, बार-बार होने वाले गर्भपात का कारण एक या दोनों भागीदारों में असामान्य गुणसूत्रों का संचरण हो सकता है। क्रोमोसोमल असामान्यताओं की पहचान के लिए आनुवंशिक परीक्षण (कैरियोटाइपिंग) किया जा सकता है।
  6. गर्भाशय सर्विक्स की कमजोरी (Cervical Weakness):- देर से गर्भपात के इतिहास वाली महिलाओं का गर्भाशय सर्विक्स की अक्षमता या कमजोरी के लिए मूल्यांकन किया जा सकता है। गर्भावस्था से पहले या उसके दौरान गर्भाशय सर्विक्स टांके (सेरक्लेज) की सिफारिश की जा सकती है।
  7. प्राकृतिक हत्यारी कोशिकाएं (Natural Killer Cells):- कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि गर्भाशय में प्राकृतिक हत्यारी सेल्स बांझपन और गर्भपात में भूमिका निभा सकती हैं। एनके (NK) सेल स्तरों का परीक्षण किया जा सकता है, लेकिन यह एनएचएस (NHS) के माध्यम से उपलब्ध नहीं हो सकता है और महंगा हो सकता है।

बार-बार गर्भपात में योगदान देने वाले अन्य कारकों में उम्र (35 से अधिक महिलाओं और 40 से अधिक पुरुषों के लिए अधिक जोखिम) और पिछले गर्भपात की एक उच्च संख्या (प्रत्येक क्रमिक नुकसान के साथ बढ़ता जोखिम) शामिल हैं।

याद रखें, प्रत्येक स्थिति अद्वितीय है, और व्यक्तिगत मार्गदर्शन और उचित परीक्षण के लिए स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

बार-बार होने वाले गर्भपात के बाद देखभाल योजना क्या है? (What Is The Care Plan After Recurrent Miscarriages?)

बार-बार गर्भपात का अनुभव करने के बाद, किसी भी अंतर्निहित समस्या की पहचान करने के लिए आपको आमतौर पर रक्त परीक्षण और स्कैन से गुजरना होगा। कुछ मामलों में, आपको एक विशेष इकाई के पास भेजा जा सकता है जो बार-बार होने वाले गर्भपात के प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित करती है। यह देखा गया है कि विशेष रूप से प्रारंभिक गर्भावस्था इकाई में सहायक प्रसवपूर्व देखभाल तक पहुँचने से भविष्य में गर्भपात के जोखिम को कम किया जा सकता है।

  1. रक्त परीक्षण (Blood Tests):- रक्त के थक्के जमने संबंधी विकार, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम और विशिष्ट एंटीबॉडी के उच्च स्तर जैसी जटिलताओं का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है, जो प्लेसेंटा में रक्त की आपूर्ति को प्रभावित करके या गर्भ में असामान्य जुड़ाव पैदा करके गर्भावस्था को प्रभावित कर सकते हैं।
  1. गर्भाशय संबंधी जांच (Uterine investigations):- गर्भाशय के आकार का आकलन करने के लिए गर्भाशय की जांच की जाती है, क्योंकि असामान्य आकार से बार-बार गर्भपात और समय से पहले जन्म की संभावना बढ़ सकती है। निष्कर्षों के आधार पर, संभावित उपचार विकल्प के रूप में सर्जरी की सिफारिश की जा सकती है।

बार-बार होने वाले गर्भपात का निदान कैसे करें? (How To Diagnose Recurrent Miscarriage?)

यहां जानकारी का संक्षिप्त पुनर्लेखन है:-

  1. निदान प्रक्रिया (Diagnostic Process):- बार-बार होने वाले गर्भपात का कारण जानने के लिए, एक प्रजनन विशेषज्ञ या प्रसूति/स्त्री रोग विशेषज्ञ रोगी के चिकित्सा इतिहास और पिछली गर्भधारण का आकलन करेगा। वे पैल्विक परीक्षा सहित संपूर्ण शारीरिक परीक्षा की सिफारिश कर सकते हैं।
  2. आनुवंशिक मूल्यांकन (Genetic Evaluation):- यदि आनुवंशिक त्रुटि का संदेह है, तो डॉक्टर शरीर की सेल्स के नमूने में गुणसूत्रों की जांच करने के लिए कैरियोटाइप परीक्षण कर सकते हैं।
  3. गर्भाशय का मूल्यांकन (Uterine Evaluation):- यदि गर्भाशय की समस्या का संदेह हो, तो एमआरआई या सोनोग्राम/अल्ट्रासाउंड जैसे इमेजिंग परीक्षण किए जा सकते हैं। एचएसजी या अल्ट्रासाउंड गर्भाशय के आकार के साथ किसी भी समस्या को प्रकट कर सकता है। एपीएस जैसी प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्याओं की जांच के लिए रक्त परीक्षण किया जा सकता है।
  4. निदान की चुनौतियाँ (Challenges of Diagnosis):- बार-बार होने वाले गर्भपात के लगभग 50 प्रतिशत रोगियों को स्पष्ट निदान मिलता है, जबकि शेष मामलों में कोई परिभाषित कारण नहीं पहचाना जाता है।
  5. भविष्य के परिणाम (Future Outcomes):- बिना किसी ज्ञात कारण वाले रोगियों में, रोगी की मातृ आयु के आधार पर, सफल गर्भावस्था की संभावना अभी भी 70 प्रतिशत तक हो सकती है।

इन चरणों का पालन करके, स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर बार-बार होने वाले गर्भपात के संभावित कारणों की जांच कर सकते हैं और भविष्य में गर्भधारण के लिए उचित मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं।

बार-बार होने वाले गर्भपात का इलाज क्या है? (What Are The Treatment For Recurrent Miscarriage?)

बार-बार गर्भपात में शामिल उपचार और कारकों की व्याख्या करने वाले कुछ बिंदु यहां दिए गए हैं:-

  1. उपचार के विकल्प (Treatment Options):- बार-बार होने वाले गर्भपात को विभिन तरीकों से संबोधित किया जा सकता है, जिसमें जीवनशैली में बदलाव, दवाएं, सर्जरी या आनुवंशिक परीक्षण शामिल हैं। इन हस्तक्षेपों का उद्देश्य सफल गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाना और भविष्य में गर्भपात के जोखिम को कम करना है।
  2. गर्भधारण की संभावना (Chances of Getting Pregnant):- तीन बार गर्भपात का अनुभव करने के बाद भी, एक महिला के गर्भवती होने और पूर्ण अवधि तक बच्चे को जन्म देने की संभावना 60 से 80 प्रतिशत होती है। कई महिलाएं प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने का प्रयास जारी रखने का विकल्प चुनती हैं, लेकिन कुछ मामलों में, डॉक्टर दूसरे गर्भपात के जोखिम को कम करने के लिए उपचार की सिफारिश कर सकते हैं।
  3. सर्जिकल समाधान (Surgical Solutions):- सेप्टेट गर्भाशय, फाइब्रॉएड, या अनियमित स्कार  टिश्यू जैसी समस्याओं को ठीक करने के लिए सर्जरी की जा सकती है। सर्जिकल सुधार के माध्यम से शारीरिक समस्याओं का समाधान करने से अक्सर सफल जीवित जन्मों की दर में सुधार होता है।
  4. ऑटोइम्यून स्थितियां (Autoimmune Conditions):- एपीएस (एंटीफॉस्फोलिपिड सिंड्रोम) जैसी ऑटोइम्यून समस्याओं वाले रोगियों के लिए, डॉक्टर कम खुराक वाली एस्पिरिन या हेपरिन जैसी रक्त-पतला करने वाली दवाएं लिख सकते हैं। गंभीर रक्तस्राव जटिलताओं के बढ़ते जोखिम के कारण गर्भावस्था के दौरान इन दवाओं का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।
  5. चिकित्सा समस्याओं का प्रबंधन (Managing Medical Problems):- असामान्य रक्त शुगर के स्तर, थायरॉयड मुद्दे या हार्मोनल असंतुलन जैसी अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों का इलाज करने से स्वस्थ, पूर्ण गर्भावस्था की संभावना बढ़ सकती है। डोपामाइन रिसेप्टर्स या प्रोजेस्टेरोन की खुराक को उत्तेजित करने वाली दवाएं इस प्रक्रिया में सहायता कर सकती हैं।
  6. आनुवंशिक विचार (Genetic Considerations):- यदि ट्रांसलोकेशन जैसी क्रोमोसोमल समस्या का पता चलता है, तो आनुवंशिक परामर्श की सिफारिश की जा सकती है। ऐसे मामलों में जहां ट्रांसलोकेशन वाले जोड़ों को स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने में कठिनाई होती है, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) जैसे प्रजनन उपचार का सुझाव दिया जा सकता है। इसमें एक प्रयोगशाला में अंडे और स्पर्म का संयोजन शामिल है, जिसके बाद केवल सामान्य भ्रूण को गर्भाशय में स्थानांतरित करने से पहले प्रीइम्प्लांटेशन जेनेटिक डायग्नोसिस (पीजीडी) का उपयोग करके भ्रूण का आनुवंशिक परीक्षण किया जाता है, जिससे सफल गर्भावस्था की संभावना में सुधार होता है।
  7. जीवनशैली विकल्प (Lifestyle Choices):- स्वस्थ जीवनशैली की आदतें जैसे धूम्रपान या अवैध नशीली दवाओं का उपयोग छोड़ना, शराब और कैफीन की खपत को सीमित करना और स्वस्थ वजन बनाए रखने से बार-बार होने वाले गर्भपात के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, तनाव, चिंता या हल्के अवसाद को बार-बार होने वाले गर्भपात से जोड़ने वाला कोई निर्णायक सबूत नहीं है।

ये कुछ उपलब्ध उपचारों और बार-बार होने वाले गर्भपात से निपटने के लिए विचार किए जाने वाले कारकों का एक सिंहावलोकन प्रदान करते हैं। व्यक्तिगत परिस्थितियों के लिए सबसे उपयुक्त दृष्टिकोण निर्धारित करने के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है।

Share This Post
spot_img
spot_img
Related Posts

मोतीलाल ओसवाल पे डीमैट अकाउंट कैसे खोले ?

मोतीलाल ओसवाल भारत का एक प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफार्म है।...

डीमेट अकांउट केसे खोले?

विषय डीमैट खाता क्या है? डीमैट खाता निम्नलिखित प्रतिभूतियों को संचालित...

डीमैट खातों को समझना: एक व्यापक मार्गदर्शिका

डीमैट खाता: परिचय डीमैट खाता, जिसे 'डेमटेरियलाइजेशन खाता' के नाम...

The Role Of Genetics In IVF: Pre-Implantation Genetic Testing in Hindi

सहायक प्रजनन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, इन विट्रो फर्टिलाइजेशन...

Alternative Options To IVF: Exploring Other Fertility Treatments in Hindi

बांझपन से जूझ रहे जोड़ों के लिए आईवीएफ के...

The Risks And Potential Complications Of IVF in Hindi

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ), प्रजनन चिकित्सा के क्षेत्र में...